सोमवार, जून 09, 2008

राज़ खोलो, पहचान गुप्त रहेगी

स्मार्ट बमअमरीका का GPS-निर्देशित स्मार्ट बम किस हद तक सटीक निशाना साधता है? इसके निशाने से कितना दूर तक छिटकने के आसार होते हैं? ये सारी सूचनाएँ इंटरनेट पर उपलब्ध हैं. पेंटागन के खुलेपन के कारण नहीं, बल्कि विकिलीक्स के सौजन्य से. वर्ष 2002 के इस दस्तावेज़ को सार्वजनिक किए जाने के बाद से यों तो अमरीका ने स्मार्ट बम या Joint Direct Attack Munition के डिज़ायन में कुछ बदलाव किए हैं, लेकिन विकिलीक्स के सौजन्य से ही हमें पता चल पाया कि दो दशकों में अमरीकी आयुध भंडार में आए इस सबसे महत्वपूर्ण बम के 2.8 मीटर तक निशाना चूकने की बात ग़लत थी, क्योंकि ये परीक्षण स्थिति का आँकड़ा था. वास्तविक युद्ध में ये 7.8 मीटर तक छिटक सकता है.

मुझे विकिलीक्स के बारे में पहली बार साल भर पहले ख़बरों की दुनिया में विचरण करते वक़्त पता चला था, लेकिन इसके काम करने के तरीके के बारे में आसान शब्दों में ढंग की जानकारी अब जा कर मिली है, विज्ञान पत्रिका न्यू साइन्टिस्ट के ज़रिए.

ख़ुशी की बात है कि साल भर से कुछ ज़्यादा समय मात्र काम करके विकिलीक्स ने 2008 Economist Index on Censorship Freedom of Expression award हासिल कर दिखाया है. हाल के दिनों में इसने हिरोशिमा पर गिराए गए परमाणु बम का डिज़ायन सार्वजनिक किया है, साथ ही ये भी बताया कि ब्रिटेन ने कैसे परमाणु हथियार क्षमता का जुगाड़ किया. इसने तिब्बत में पिछले दिनों हुए प्रदर्शन को दबाने के लिए किए चीन के शक्ति-प्रदर्शन के सैंकड़ो दिल दहला देने वाले चित्र और वीडियो क्लिप्स भी उपलब्ध कराए हैं.

बमुश्किल डेढ़ साल पुरानी इस वेबसाइट को चलाने वालों ने अमरीका सरकार, चीन सरकार, पूर्व कीनियाई राष्ट्रपति, सबसे बड़े निजी स्विस बैंक, रूसी कंपनियों, सिंटोलोजी-कैथोलिक-मॉरमन चर्चों आदि के क़ानूनी-ग़ैरक़ानूनी हमलों का सफलतापूर्वक सामना किया है.

विकिलीक्स से जुड़ी कुछ बुनियादी बातें

-विकिलीक्स के के पहले ही पन्ने पर आमंत्रण और आश्वासन इन शब्दों में दिया गया है- Have documents the world needs to see? We protect you and get your disclosure out to the world.

-विकिलीक्स को किस तरह के गोपनीय दस्तावेज़ों की ज़रूरत है ये एक पंक्ति में स्पष्ट किया गया है- Wikileaks accepts classified, censored or otherwise restricted material of political, diplomatic or ethical significance.

-इसके ठीक बाद एक और पंक्ति में स्पष्ट किया गया है कि विकिलीक्स को किस तरह की जानकारी नहीं चाहिए- Wikileaks does not accept rumour, opinion or other kinds of first hand reporting or material that is already publicly available.

-विकिलीक्स को सार्वजनिक किए जाने योग्य गुप्त दस्तावेज़/रिकॉर्डिंग भोजपुरी और हिंदी समेत कई भारतीय भाषाओं में भी भेजे जा सकते हैं.

गोपनीयता प्याज़ की परतों के सहारे

विकिलीक्स को मिलने वाले दस्तावेज़ों की परख दुनिया भर में फैले इसके स्वयंसेवक करते हैं. ये लोग या तो जानेमाने वक़ील हैं, या फिर मान्यता प्राप्त पत्रकार. गोपनीयता मुहैया कराने के सच्चे भरोसे के कारण विकिलीक्स को हाल के महीनों में इतनी बड़ी संख्या में दस्तावेज़ प्राप्त हुए हैं, कि उनको शीघ्रता से परखने के लिए स्वयंसेवक कम पड़ गए हैं.

दस्तावेज़ लीक करने वालों को गोपनीयता मुहैया कराने का बड़ा ही सरल आधार है, उनके वेब कनेक्शन के IP address को ज़ाहिर नहीं होने देना. ये काम करता है The Onion Router या टोर नामक एक नेटवर्क. टोर विकिलीक्स को भेजे गए दस्तावेज़ को हज़ारों सर्वरों के एक नेटवर्क के ज़रिए रूट करता है. दस्तावेज़ इन सर्वरों में एक से दूसरे में अनियोजित तरीके से कई बार स्थानांतरित होने के बाद अंतत: विकिलीक्स के इनबॉक्स में पहुँचता है.

दरअसल विकिलीक्स के स्वयंसेवक टोर का क्लाइंट सॉफ़्टवेयर अपने कंप्यूटर पर डाउनलोड कर उसे एक ओनियन प्रॉक्सि में बदल देते हैं. जब कोई गुप्त दस्तावेज़ी संदेश भेजता है तो टोर इसे तीन बार प्याज़ की परतों जैसा इनक्रिप्ट करता है. तीनों परतों के लिए अलग-अलग कुंज़ी देकर उन्हें अनियोजित तरीके से अचानक चुने गए टोर नेटवर्क के तीन प्रॉक्सि सर्वरों को भेज दिया जाता है. इनमें से एक सर्वर पहली परत को डिक्रिप्ट करके चुने गए दूसरे सर्वर को बढ़ा देता है. दूसरा सर्वर एक और परत को डिक्रिप्ट करता है. और अंतत: तीसरे सर्वर से पूरी तरह डिक्रिप्टेड संदेश बाहर आता है. और, आमतौर पर यही लगता है कि संदेश का स्रोत ये तीसरा सर्वर ही है, जबकि असलियत कुछ और है!

इस तरह उछलकूद मचाते हुए गंतव्य तक पहुँचे संदेश का स्रोत का पता हर देश की सुरक्षा एजेंसियों के बूते से बाहर की बात है. अमरीकी राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी के पास इसकी क्षमता ज़रूर है, लेकिन इसके लिए उसे सही समय पर सही सर्वर को लक्ष्य करना पड़ेगा. यानि सिद्धांत: संभव, लेकिन व्यावहारिक तौर पर लगभग असंभव काम! कंप्यूटर सुरक्षा विशेषज्ञ Bruce Schnier इसे एक सरल उदाहरण से समझाते हैं, "कल्पना करें लोगों से भरे एक बड़े कमरे की. कमरे में मौजूद लोगों में से अनेक एक-दूसरे को लिफ़ाफ़े सौंप रहे हैं. भला कैसे पता लगाएँगे कि कौन-सा लिफ़ाफ़ा शुरूआत में किसके हाथ में था?"

कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के एक शोध दल ने कुछ टोर प्रॉक्सि सर्वरों की पहचान कर दिखाने का दावा किया है. लेकिन उनके शोध में भी गुप्त संदेश का पता नहीं चल पाया, सिर्फ़ टोर क्लाइंट सॉफ़्टवेयर का उपयोग करने वाले की पहचान भर हो पाई है. यानि विकिलीक्स पर दस्तावेज़ लीक करने के लिए किसी को दोषी साबित करना अभी तक लगभग असंभव ही है.

विचित्र किंतु सत्य

अमरीकी ख़ुफ़िया सैनिक सूचनाओं को बड़ी मात्रा में परोसने वाला विकिलीक्स जिस टोर तकनीक पर आश्रित है, उसका विकास वाशिंग्टन डीसी स्थित अमरीकी नौसैनिक अनुसंधान प्रयोगशाला(NRL) में किया गया था. लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि अमरीकी रक्षा मंत्रालय इस नेटवर्क में किसी भी तरह घुसपैठ कर सकता है. विकिलीक्स के प्रवक्ता Julian Assange ने इस तथ्य को इन शब्दों में कहा है, "इंटरनेट की तरह ही, टोर उन लोगों के हाथ से बाहर निकल चुका है, जो कभी इसके निर्माण में शामिल रहे होंगे."

किसी एक देश में क़ानूनी पेंच में फंसाए जाने का तोड़ भी विकिलीक्स ने पहले से ही निकाल रखा है. विकिलीक्स.ऑर्ग के अनेक मिरर साइट्स हैं जिन्हें बेल्जियम, स्वीडन, ऑस्ट्रेलिया, क्रिसमस आइलैंड और कैलीफ़ोर्निया समेत कई देशों में रखा गया है. यानि किसी एक देश में विकिलीक्स वेबसाइट को बंद करने के लिए क़ानूनी कार्रवाई करेंगे, फिर भी वेबसाइट पूरी तरह बंद नहीं होगी. ये बात हाल ही में एक स्विस बैंक को समझ में आ गई जब उसने विकिलीक्स के ख़िलाफ़ क़ानूनी कार्रवाई करने की पहल की. ख़ास कर स्वीडन और बेल्जियम के कड़े सेंसरशिप-विरोधी क़ानूनों का बख़ूबी लाभ उठाया है विकिलीक्स ने.

आलोचना और उसका जवाब

विकिलीक्स किसी सरकार या संस्था के प्रति जवाबदेह नहीं है, इसलिए सामरिक महत्व की गोपनीय सूचनाएँ लीक करने के इस प्लेटफ़ॉर्म को लेकर कुछ हलकों में असहजता देखी जा सकती है. इनमें से अमरीकी संस्था Federation of American Scientists(एफ़एसए) भी है जो ख़ुद अपनी Project on Government Secrecy के तहत गोपनीय दस्तावेज़ लीक करती है. एफ़एसए के एक प्रवक्ता Steven Aftergood विकिलीक्स को गोपनीय सूचनाएँ लीक करने की प्राचीन कला को एक पेशेवर रूप देने का श्रेय देते हैं, साथ ही शिकायत भी करते हैं कि विकिलीक्स क़ानून के दायरे बाहर रह कर काम करता है और इसलिए आगे चल कर यह सुरक्षा के लिए ख़तरा बन सकता है.

इस पर विकिलीक्स के प्रवक्ता का जवाब है, "जब सरकार लोगों को प्रताड़ित करना और लोगों को मौत के घाट उतारना बंद कर देगी, जब बड़ी-बड़ी कंपनियाँ क़ानूनी प्रावधानों का दुरुपयोग करना छोड़ देंगी, तब शायद ये पूछने का समय का होगा कि क्या अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के समर्थक जवाबदेह हैं."

2 टिप्‍पणियां:

Gyandutt Pandey ने कहा…

धन्यवाद विकिलीक्स के लिंक के लिये। बुकमार्क कर लिया है - यदा-कदा अवलोकन के लिये।
वैसे यह तहलका छाप चीज लगी - प्रथमदृष्ट्या। और तहलका बहुत इम्प्रेस नहीं करता मुझे। लीक करने वाले लीक करने की पावर से परिचित होते हैं और देर सबेर उस पावर पर सवारी करने लगते हैं।

Alokesh ने कहा…

I was not aware of this, thanks for letting us know! Keep up the good work !!