मंगलवार, अप्रैल 26, 2011

तस्वीरें नौकरशाही की

भारत में ऐसे कम ही लोग होंगे जिनका मोटी खाल और पत्थर दिल वाली नौकरशाही से पाला नहीं पड़ा हो. लेकिन डच छायाकार Jan Banning की Bureaucratics सिरीज़ की तस्वीरें संभव है नौकरशाही में शामिल लोगों के प्रति आपके नज़रिए में थोड़ी सहानुभूति का भाव भर दे.

नौकरशाही की तस्वीरों के लिए यॉन बैनिंग आठ देशों के सैंकड़ो दफ़्तरों में गए. प्रस्तुत है इस सिरीज़ के लिए 2003 में बिहार में खींची गई कुछ तस्वीरें जिनके लिए बैनिंग को वर्ल्ड प्रेस फ़ोटो अवार्ड मिल चुका है.





बैनिंग की नौकरशाही सिरीज़ की तस्वीरों के तकनीकी पक्ष के बारे में प्रस्तुत है न्यूयॉर्कर में छपी रिपोर्ट का एक अंश-

Content dictated form. “What is bureaucracy?” Banning asked. “First of all, it’s square, so I used a square format. Second, it’s straight lines, and in the middle of that grid you’ve got this round being, this human being. And the camera is a metaphor for the local citizen who enters that space. So I always put myself directly in front of the desk or at ninety degrees to the desk, to get that Mondrian structure.”

The element of surprise was crucial. Given any warning, the bureaucrats would try to tidy their workspaces, but Banning wanted to see each office in all its cluttered glory, just as an everyday citizen would encounter it.

4 टिप्‍पणियां:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

फइलों में सिमटा देश।

kaalchintan ने कहा…

वाह साहब! कहाँ-कहाँ से रत्न ढूंढ निकाल लाते हैं आप भी!!!

alps ने कहा…

aapka blog laajawab hai. sach mein ek jagmagata hindi ka sitara ...

worldview is amazing, hindi pride.

aadi guru ने कहा…

kagajo kay booto ko filo may bandhkar kagajo ka samshan ban chukay hai hammaray sarkari karaylay. (AADI GURU)